Audichya Brhamin: A message to all the Audichya Brahmins.

Audichya Brhamin: A message to all the Audichya Brahmins.:



A message to all the Audichya Brahmins.

देश के समस्त औदीच्य ब्राह्मण बन्धुओं के लिए एक सन्देश. 
मित्रोपिछले आठ से अधिक वर्ष से 'औदीच्य बंधू वेवब्लॉग का प्रसारण किए जा रहा था|औदीच्य महासभा में व्याप्त राजनीती ने समाज के सभी तटस्थ व्यक्तियों को भी व्यथित कर दिया था|इसमें समाज हित के विभिन्न लेखगतिविधियांसमाचारवैवाहिक विज्ञापनऔर औदीच्य बधू पत्रिका भी पिछले कई वर्षों से डिजिटल रूप में उपलब्ध होती रही थीपाठको की बडती संख्या और हमको दिए गए प्रोत्साहन ने हमारा होंसला भी बडाया था
पिछले लगभग एक वर्ष से आज तक कई बार बंधुओं ने वैवाहिक विज्ञापन के लिए बारम्बार आग्रह किया है
इस प्रोत्साहन एवं आग्रह को देख कर अब हमने यह निर्णय लिया हैकी वैवाहिक विज्ञापन हेतु नई साईट निर्मित की जायेयह ब्लॉग साईट केवल वैवाहिक विज्ञापन एवं विवाह विषयक जानकारियों से ही सम्बद्ध रहेगायह साईट किसी भी संस्था आदि के प्रति उत्तरदाई नहीं होगीइससे हम अपना कार्य निष्पक्ष करने में समर्थ होंगे
इस साईट पर पूर्व की तरह औदीच्य ब्राह्मणों के वैवाहिक विज्ञापन प्रमुख रूप से, निशुल्क एक वर्ष के लिए प्रसारित किये जा सकेंगे
वर्तमान परिस्थितियों के अनुसार कई बधू सर्व ब्राह्मण को एक मानते हुए वैवाहिक सम्बन्ध स्वीकार करते हें अत: उनकी इस सोच को ध्यान में रखते हुए अन्य ब्राह्मण समाज के वैवाहिक विज्ञापन स्वीकार कर प्रकाशित किये जा सकेंगेजो विशेष शीर्षक अन्य ब्राह्मण पर उपलब्ध होंगेइस साईट में सुविधा हेतु शिक्षाआयु व्यवसायया नौकरी आदि के लिए भी अलग अलग शीर्षक (पेज) उपलब्ध होंगे
ओन लाइन प्रविष्टि/ मेल प्रविष्टि / एवं डांक से प्रविष्टि स्वीकार की जा सकेंगी
इस बारे में कोई भी विशेष या अन्य जानकारी हेतु सपर्क निम्न पते/ फोन पर भी कर सकेंगे
E mail- audichyamp@gmail.com 
Uddhav Joshi 
उद्धव जोशी 
F 5/20 LIG Rishi Nagar Ujjain MP India 


ऍफ़ 5/20 एल आई जी, ऋषि नगर उज्जैन मप्र  फोन-  9406860899/  0734-2515677 
Audichya Brhamin वैवाहिक 

“ठाकुर सुहाती या चापलूसी स्वीकार न करने पर “औदीच्य बंधू” मासिक इन्दोर के सम्पादक मंडल में परिवर्तन संभावित?

जनवरी औदीच्य बंधू का डिजिटल एडिशन प्रस्तुत है विचारने योग्य इस लेख के साथ-
ठाकुर सुहाती या चापलूसी स्वीकार न करने पर “औदीच्य बंधू” मासिक इन्दोर के सम्पादक मंडल में परिवर्तन संभावित?

औदीच्य बंधू  जनवरी 17 डिजिटल अंक 
औदिच्य बंधू मासिक पत्रिका का दिसमबर के बाद अब पुन: जनवरी 17 का नव वर्ष का नया अंक सम्पादक मंडल के नामों से रहित, अपने आप में विशेष हैI दिसम्बर के पिछले अंक से ही पूर्व सम्पादक मंडल प्रमुख सर्व श्री ओंम ठाकुर, संपादक सर्व श्री धर्मेन्द्र रावल, सर्व श्री उद्दव जोशी प्रबंध संपादक सर्व श्री मनमोहन ठाकर जी के नाम उनकी जगह देखने नहीं मिले प्रमुख संपादक श्री ओम जी के सत्य को इंगित करता हुआ लेख दिसंबर अंक में देखा गया था, नई पुन: पीड़ा के साथ लिखा गया स्वतंत्र कलम से लिखा गया शायद अब अंतिम लेख हो सकता हैI
जैसा की सभी जानते हें की पिछले दिनों अखिल भारतीय औदिच्य महासभा अध्यक्ष के चुनाव आर्थिक धरातल पर वर्चस्व की भावना स्थापित करने के उद्देश्य से लादे गए थे, जिन्हें महत्वाकांक्षियों ने अपने पक्ष में कर लिया थाI इसके बाद अगले चरण में स्वतंत्र पत्रिका औदिच्य बंधू जिसके जन्म के लिए महासभा की कोई भूमिका नहीं हैI